Full Form of ESI & ESIC | Employee State Insurance Corporation

ESI का Full Form हैं Employee State Insurance तथा ESIC का Full Form हैं Employee State Insurance Corporation दोनों का अर्थ एक ही हैं, ESI Full Form, ESIC Full Form.

Details of Employee State Insurance Corporation

Employee State Insurance: esic scheme का निर्माण भारत सरकार के द्वारा किया गया था जिसका संचालन श्रम विभाग के द्वारा किया जाता है ईएसआईसी एक लेबर कानून है जिसमें मजदूरों को तथा निम्न वर्ग कर्मचारियों को लाभ देने के लिए इस योजना का निर्माण किया गया है।

Full Form of ESI: ईएसआई कर्मचारी राज्य बीमा योजना सामाजिक बीमा का एक एकीकृत उपाय है कर्मचारी राज्य बीमा अधिनियम में सन्निहित है और इसे के कार्य को पूरा करने के लिए डिज़ाइन किया गया है कर्मचारी राज्य बीमा अधिनियम, 1948 में परिभाषित ‘कर्मचारियों’ की रक्षा करना बीमारी, प्रसूति, विकलांगता और रोजगार की चोट के कारण मृत्यु की घटनाओं का प्रभाव और बीमित व्यक्तियों और उनके परिवारों को चिकित्सा देखभाल प्रदान करना।

Full Form of ESIC: इसके अंतर्गत उन कर्मचारियों या उन मजदूरों को लाभ मिलता है जो कर्मचारी ऐसे संस्था या फिर ऐसे उद्योगों कंपनियों में काम करता है जहां पर कर्मचारियों की संख्या 10 से अधिक हो तथा वेतन ₹21000 से कम हूं तो ऐसे कर्मचारियों का पीएफ की कटौती किया जाता है तथा ईएसआईसी की भी कटौती की जाती है जिसमें कर्मचारियों का कुछ अंश काटा जाता है जिसके लिए उसे सामाजिक सुरक्षा का वादा मिलता है। संस्थान जहां 10 या अधिक व्यक्ति हैं कार्यरत।

Employee State Insurance: उक्त श्रेणियों के कारखानों और प्रतिष्ठानों के कर्मचारी, जिनका वेतन तक है ₹21,000/- प्रति माह, ईएसआई अधिनियम के तहत सामाजिक सुरक्षा कवर के हकदार हैं। ईएसआई योजना को नियोक्ताओं और कर्मचारियों के योगदान से वित्तपोषित किया जाता है। नियोक्ता द्वारा योगदान कर्मचारियों को देय वेतन का 4.75% है। तथा कर्मचारी’ योगदान कर्मचारी को देय वेतन के 1.75 प्रतिशत की दर से होता है। कर्मचारियों, दैनिक मजदूरी के रूप में प्रतिदिन ₹ 100/- से कम कमाने वाले को अपने हिस्से के भुगतान से छूट दी गई है योगदान।

Employee State Insurance Employer ID पंजीकरण विधि

नियोक्ता को अपने कारखाने या संस्था के लिए ईएसआईसी वेब पोर्टल www.esic.in के माध्यम से, ईएसआईसी पंजीकरण संख्या Employer ID मिला होता हैं जिसमे वह अपना Employer Login कर के कर्मचारियों का पंजीयन कर सकता हैं एवं Esic Portal से सम्बंधित समस्त कार्य कर सकता हैं l

Employee State Insurance Employee पंजीकरण विधि

Esic Portal में Employee रजिस्ट्रेसन करते समय Employer के पास दो विकल्प होता हैं पहला अगर कर्मचारी ने पहले कहीं भी काम नहीं किया है और उसके पास ESIC Number नहीं हैं तो नियोक्ता के द्वारा कर्मचारी को ईएसआई योजना के तहत पंजीकृत करना होगा और पंजीकरण प्रक्रिया के बाद पूरी होने पर, कर्मचारी को एक बीमा नंबर IP Number (Insurance Person Number) दे दिया जाता हैं, जो यूनिक होता हैं और कर्मचारी के पूरे जीवन में मान्य होता हैं, भले ही कर्मचारी नौकरी बदलता रहे।

दूसरा विकल्प में कर्मचारी के पास पहले से ही एक बीमा संख्या IP Number (Insurance Person Number) है, तो नियोक्ता अपने ID में उसे दर्ज करता हैं और कर्मचारी के विवरण को Update कर देता हैं, क्योंकि बीमा संख्या प्रत्येक कर्मचारी के लिए यूनिक होता हैं और कर्मचारी के पूरे जीवन में मान्य होता हैं चाहे वह नौकरी बदलता रहे।

Employee State Insurance Employee Registration Process

ईएसआईसी की संपूर्ण ऑनलाइन प्रक्रिया ईएसआईसी की वेबसाइट ‘www.esic.in’ के अंतर्गत देखा जा सकता है
i) कर्मचारी पंजीकरण
ii) नया आईपी पंजीकृत करें या पहले से पंजीकृत
iii) आईपी के सभी प्रासंगिक विवरण भरकर घोषणा पत्र (डीएफ) का निर्माण
iv) घोषणा पत्र प्रस्तुत करना
v) आईपी नंबर का सृजन

Employee State Insurance Esic E Pehchan Card

Esic E Pehchan Card बनवाने के लिए सबसे पहले आपका नाम ईएसआईसी पोर्टल में esic registration होना चाहिए और आपका ESIC नंबर होना चाहिए तभी आप अपना Esic E Pehchan Card कार्ड बनवा पाएंगे ESIC Portal में आप का रजिस्ट्रेशन हुआ है कि नहीं आप ESIC के मेंबर है कि नहीं, को जानने के लिए आप esic search by name सर्च कर के चेक सकते हो कि आपका ESIC Portal में रजिस्ट्रेशन हो गया नहीं है l

Esic E Pehchan Card बनाने के Process

आप अपने ESIC ID में अपने परिवार के जितने भी लोगों हैं का नाम ऐड करवाना चाहते हो तो उन सभी का आधार कार्ड की फोटो कॉपी तथा फोटो आपको अपने Employer को देना होगा उसके बाद एंपलॉयर उस डाटा को ईएसआईसी पोर्टल में रजिस्टर्ड करेगा उसके बाद ईएसआई योजना के तहत लाभ की पात्रता की शर्तें पूरी करने पर बीमित व्यक्ति को Pehchan Card ESIC Card प्रदान की जाएगी जो की आमतौर पर 3 महीने की अवधि के लिए वैध होता है।

इस अवधि के भीतर आई.पी (Insurance Person) को अपने Pehchan Card में अपने पारिवारिक की तस्वीर लगा कर नियोक्ता के पास जमा करना होगा उसके बाद Employer के द्वारा विधिवत सत्यापित कर निकटतम/कोई भी शाखा कार्यालय, जहां आईपी का फोटो लिया जाएगा और आईपी ​​और परिवार के सदस्यों के फिंगरप्रिंट स्कैन किए जाएंगे प्रक्रिया के पूरा होने पर Esic E Pehchan Card लगभग 2 सप्ताह के समय में आईपी को दिया जाता हैं।

Benefits Under ESI Scheme Employee State Insurance

Sickness Benefit, Disablement Benefit, Dependants’ Benefit, Maternity Benefit, Medical Benefit,
Other benefits, being provided to the beneficiaries are Confinement Expenses, Funeral
Expenses, Vocational Rehabilitation, Physical Rehabilitation, Unemployment Allowance
and Skill Upgradation Training esic online

Employee State Insurance SICKNESS BENEFIT बीमारी की दशा में लाभ

सामान्य बीमारी की दशा में लाभ (Employee Insurance)

सामान्य बीमारी की दशा में लाभ लेने के लिए कर्मचारी के वेतन से कम से कम 78 दिनों के लिए अंशदान का भुगतान हुआ होना चाहिए। तथा लगातार दो बार तबियत खराब होने की दशा में अधिकतम 91 दिनों का लाभ दिया जायेगा तथा लाभ औसत दैनिक मजदूरी का 70% तक दिया जाता हैं l

बढ़ी हुई बीमारी नसबंदी/ट्यूबेक्टोमी की दशा में लाभ (Employee State Insurance)

बढ़ी हुई बीमारी नसबंदी/ट्यूबेक्टोमी की दशा में लाभ लेने के लिए कर्मचारी के वेतन से कम से कम 78 दिनों के लिए अंशदान का भुगतान हुआ होना चाहिए। बढ़ी हुई बीमारी की दशा जब डाक्टर के सलाह अनुसार तथा ट्यूबेक्टोमी के लिए 14 दिन और पुरुष नसबंदी के लिए 7 दिन, तथा डाक्टरी सलाह अनुसार बढ़ाई जा सकती है। तथा लाभ औसत दैनिक मजदूरी का 100% तक दिया जाता हैं l

गंभीर बीमारी की दशा में लाभ (Employee State Insurance)

गंभीर बीमारी की दशा में लाभ लेने के लिए कर्मचारी के वेतन से कम से कम 156 दिनों के लिए अंशदान का भुगतान हुआ होना चाहिए। तब दो वर्ष की अवधि के दौरान 124 दिन तक का वेतन दिया जायेगा तथा डाक्टर के सलाह पर बढ़ाया जा सकता है l औसत दैनिक मजदूरी का 80% तक दिया जाता हैं l

Employee State Insurance DISABLEMENT BENEFIT विकलांगता लाभ की दशा में लाभ

Temporary Disablement Benefit अस्थायी विकलांगता की दशा में लाभ

कर्मचारी के काम में प्रवेश करने के पहले दिन से ही कार्य के दौरान चोट लगने के कारण अस्थायी विकलांग होने पर इसका लाभ दिया जाता हैं इसका लाभ तब तक दिया जाता हैं जब तक जब तक अस्थायी विकलांगता बनी रहती है। और इसमें औसत दैनिक मजदूरी का लगभग 90% दिया जाता हैं l

Permanent Disablement Benefit स्थायी विकलांगता की दशा में लाभ

कर्मचारी के काम में प्रवेश करने के पहले दिन से ही कार्य के दौरान चोट लगने के कारण स्थायी विकलांग होने पर इसका लाभ दिया जाता हैं इसका लाभ पुरे जीवन के लिए दिया जाता हैं और इसमें औसत दैनिक मजदूरी का लगभग 90% दिया जाता हैं l इसमें लाभ लेने के लिए चिकित्सा बोर्ड द्वारा निर्धारित विकलांगता प्रमाण पत्र की आवश्यकता पड़ती हैं l

DEATH BENEFIT कर्मचारी की मृत्यु होने की दशा में लाभ

कर्मचारी के काम में प्रवेश करने के पहले दिन से ही कार्य के दौरान चोट लगने के कारण मृत्यु होने पर इसका लाभ आश्रितों को दिया जाता हैं, इसके अंतर्गत विधवा को आजीवन या उसके पुनर्विवाह तक तथा आश्रित बच्चो को 25 वर्ष की आयु तथा आश्रित माता-पिता आदि को शर्तों के अधीन। इसका लाभ आश्रितों के बीच निश्चित अनुपात में पुरे जीवन के लिए दिया जाता हैं और इसमें औसत दैनिक मजदूरी का लगभग 90% दिया जाता हैं l

MATERNITY BENEFIT मातृत्व लाभ

महिला कर्मचारी के माँ बनाने की दशा में लाभ लेने के लिए कर्मचारी के वेतन से कम से कम 70 दिनों के लिए अंशदान का भुगतान हुआ होना चाहिए। प्रसव के मामले 12 सप्ताह तक का लाभ दिया जाता हैं, तथा गर्भपात के मामले में 6 सप्ताह तक का लाभ दिया जाता हैं, और गर्भावस्था, प्रसव, गर्भपात, से उत्पन्न होने वाली बीमारी के मामले में चिकित्सा सलाह पर 1 महीने तक बढ़ाया जा सकता है l औसत दैनिक मजदूरी का 100% दिया जाता है l

MEDICAL BENEFIT (Employee State Insurance)

पात्रता: बीमा योग्य में प्रवेश करने के पहले दिन से स्वयं और परिवार के लिए ‘उचित चिकित्सा देखभाल’
रोज़गार।
अवधि और लाभ का पैमाना: जब तक वह बीमा योग्य नहीं रहता तब तक उचित चिकित्सा देखभाल
रोज़गार।
ईएसआई योजना के तहत चिकित्सा लाभ अब की विधवाओं/पति/पत्नी के लिए बढ़ा दिया गया है
मृतक/सेवानिवृत्त/अधिवर्षिता प्राप्त बीमित व्यक्तियों के साथ-साथ बीमित व्यक्ति की विधवा/पति/पत्नी को
वे व्यक्ति जो स्थायी निःशक्तता के कारण बीमा योग्य रोजगार में रहना बंद कर देते हैं,
और बीमित व्यक्तियों की विधवाओं को भी, जो आश्रितों का लाभ प्राप्त कर रहे हैं

Confinement Expenses (Employee State Insurance)

Eligibility: An Insured Woman or an I.P. in respect of his wife is eligible if confinement occurs
at a place where necessary medical facilities under ESI Scheme are not available. Duration & scale of benefits: Up to two confinements only. Rate: ` 5000/- per case.

Employee State Insurance BENEFIT AFTER RETIREMENT

एक बीमाकृत व्यक्ति जो सेवानिवृत्ति की आयु प्राप्त करने पर रोजगार छोड़ देता है या स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना के तहत सेवानिवृत्त होता है या समय से पहले सेवानिवृत्ति लेता है, तो व्यक्ति के सेवानिवृत्ति होने के कम से कम 5 वर्ष के बाद पेंशन प्राप्त करने के लिए पात्र होगा l

यदि बीमित व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है, तो उसका पति या पत्नी शेष अवधि के लिए चिकित्सा लाभ का हकदार होता है, जिसके लिए योगदान दिया गया था, यह चिकित्सा लाभ उस बीमित व्यक्ति के लिए भी स्वीकार्य है जो अपने और अपने पति या पत्नी के लिए रोजगार की चोट के कारण स्थायी विकलांगता के कारण रोजगार में रहना बंद कर देता है, जिस तारीख को वह उस तिथि तक समान योगदान के भुगतान पर होता है, जिस तारीख को वह रोजगार प्राप्त करने पर रोजगार खाली कर देता।

ONLINE SERVICES of Employee State Insurance

In ESI Corporation, bilingual (Hindi & English) Information Website ‘www.esic.nic.in’ and Service Website ‘www.esic.in’ are already operational. The following services can be availed online by stakeholders in case of need:-
i) Registration of employers & employees
ii) Issuance of TIC
iii) Online payment of ESI Contribution by the employers or online generation of challan for payment of contributions.
iv) Payment of Cash benefits at Branch Offices
v) Facilitation of Medical Care at Dispensaries & Hospitals
vi) Stakeholders may lodge Grievance online and get redressal through internet facility anytime & anywhere in ESIC.

Employee State Insurance Corporation (ESIC) से सम्बंधित और जानकारी देखने के लिए निचे दिए लिंक पर क्लिक कर सकते हैं-

1 thought on “Full Form of ESI & ESIC | Employee State Insurance Corporation”

Leave a Comment